18 July 2024

NASA ALERT

यह खगोलीय आगंतुक, जिसका नाम 2024 KN1 है, 88 फुट के हवाई जहाज के आकार का है और यह लगभग 16,500 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से यात्रा कर रहा है।

पृथ्वी के करीब से गुजर रहा है क्षुद्रग्रह

पृथ्वी के करीब आने वाले क्षुद्रग्रह हमेशा सुर्खियों में रहते हैं क्योंकि इनमें से किसी एक के टकराने से मानव जीवन के लिए विशाल आपदा हो सकती है। हाल ही में, नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (NASA) के जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी ने एक हवाई जहाज के आकार के क्षुद्रग्रह के बारे में चेतावनी दी है जो आज पृथ्वी के सबसे करीब आएगा।

NASA की चेतावनी: समय, दूरी और गति की जाँच करें

यह खगोलीय आगंतुक, जिसका नाम 2024 KN1 है, 88 फुट के हवाई जहाज के आकार का है और यह लगभग 16,500 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से यात्रा कर रहा है। यह अमोर समूह का सदस्य है और 23 जून, 2024 को रात 11:39 बजे IST पर पृथ्वी के सबसे करीब आएगा।

NASA Warning: Check the time, distance, and speed
NASA Warning: Check the time, distance, and speed

हालांकि, चिंतित होने की कोई बात नहीं है क्योंकि NASA ने इसे गैर-खतरनाक के रूप में वर्गीकृत किया है, यह बताते हुए कि इसकी कक्षा इसे पृथ्वी से सुरक्षित दूरी पर रखेगी, जिससे टकराव का कोई खतरा नहीं होगा। यह पृथ्वी से 5.6 मिलियन किलोमीटर की सुरक्षित दूरी पर से गुजरेगा।

पृथ्वी के आस-पास लगभग 30,000 विभिन्न आकारों के क्षुद्रग्रह कैटलॉग किए गए हैं, जिनमें से 850 से अधिक एक किलोमीटर चौड़े से बड़े हैं। इन्हें “नियर अर्थ ऑब्जेक्ट्स” (NEOs) कहा जाता है। अगले 100 वर्षों तक इनमें से कोई भी पृथ्वी को खतरा नहीं पहुंचाएगा। NASA संभावित रूप से खतरनाक क्षुद्रग्रहों के एक छोटे समूह की भी बारीकी से निगरानी करता है, जिनकी कक्षाएँ पृथ्वी के करीब आ सकती हैं और संभावित टकराव का खतरा पैदा कर सकती हैं।

गौरतलब है कि NASA का डैशबोर्ड उन क्षुद्रग्रहों और धूमकेतुओं को ट्रैक करता है जो पृथ्वी के करीब आएंगे। डैशबोर्ड निकटतम दृष्टिकोण की तारीख, वस्तु का अनुमानित व्यास, सापेक्ष आकार और प्रत्येक मुठभेड़ के लिए पृथ्वी से दूरी दिखाता है। यह उन क्षुद्रग्रहों को ट्रैक करता है जो पृथ्वी से 7.5 मिलियन किलोमीटर के भीतर हैं।

NASA के अनुसार, क्षुद्रग्रह हमारे सौरमंडल के गठन से बचे हुए हैं। सभी क्षुद्रग्रह एक ही आकार और आकार के नहीं होते हैं। क्योंकि क्षुद्रग्रह सूर्य से विभिन्न दूरियों पर विभिन्न स्थानों पर बनते हैं, कोई भी दो क्षुद्रग्रह समान नहीं होते हैं। क्षुद्रग्रह ग्रहों की तरह गोल नहीं होते और उनकी सतहें खुरदरी और अनियमित होती हैं। अधिकांश क्षुद्रग्रह विभिन्न प्रकार की चट्टानों से बने होते हैं, लेकिन कुछ में मिट्टी या धातु जैसे निकल और लोहे भी होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *